Author Archive: nkchoudhary

तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो

तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो

कैफ़ी आज़मी

तुम इतना जो मुस्कुरा रहे हो
क्या ग़म है जिस को छुपा रहे हो

आँखों में नमी हँसी लबों पर
क्या हाल है क्या दिखा रहे हो

बन जायेंगे ज़हर पीते पीते
ये अश्क जो पीते जा रहे हो

जिन ज़ख़्मों को वक़्त भर चला है
तुम क्यों उन्हें छेड़े जा रहे हो

रेखाओं का खेल है मुक़द्दर
रेखाओं से मात खा रहे हो

हम हिन्दी भाषी

हम हिन्दी भाषी ब्लाग की शुरूआत इस उद्देश्य से किया गया हॆ कि हिन्दी भाषा में होने वाली कंम्प्यूटर आधारित कार्यों के संबंध में नवीनतम जानकारी को हिन्दी भाषीयों व संबंधित व्यक्तियों तक पहुंचाया जा सके ।
खास तॊर पर हिन्दी संगणकीय भाषाविज्ञान में होने वाली नई खोजों पर विशेष नजर रहेगी।